यह ध्यान रखना…

रात आएगी काली घनी,
आंसुओं से लदी भरी;
सब तारे गुम्म हो जायेंगे,
और चाँद दग़ा दे जाएगा;
तुम डर डर सोना चाहोगे,
पर ख्व़ाब डराते जायेंगे;
बस पूरब की ओर आँख रखना…
सुबह होगी-
यह ध्यान रखना…

अन्धकार रात नहीं-
प्रकृति की प्रवृत्ति है,
दोष क्या देना ?
रोष क्या लेना ?
जग काटे गुंजे कितने ही,
पतझड़ निर्मम हो कितना भी,
वसंत को रोक सका है कौन?
कोयल को टोक सका है कौन?

जो राख जमे अंतर्मन में,
उसे झाड़-झाड़ उड़ान भरना,
फीनिक्स हो तुम,
जद्दो जहद में यही मिज़ाज रखना|

सुबह होगी-
यह ध्यान रखना…

~समर~

समर भीड़ में उलझा एक चेहरा है |

अगर आपको उचित लगे तो इस लेख को लाइक और इसपर कमेन्ट करें | अपने मित्रों और परिवार के सदस्यों से साझा करें | The GoodWill Blog को follow करें ! मुस्कुराते रहें |

अगर आप भी लिखना चाहते हैं The GoodWill Blog पर तो हमें ईमेल करें : blogthegoodwill@gmail.com

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: