स्त्री – एक पहर

स्त्री की महानता पिरोती विजय की कविता…