बदलाव ही ठहराव है …

यतिन “शेफ़्ता ” की कविता – कितना कुछ है जो आज बदल गया है | कितना कुछ बदल जाना है …