हो सके तो लौट आना…

यतिन “शेफ़्ता ” की कविता…