शून्य

समय से भी पहले,
कथित एक क्षण था;
जब सब केवल शून्य था |
थे कुल केवल तीन विकल्प-
शून्य सिकुड़ सकता था ,
या जैसा है वैसा ही बन-
रह सकता था |
पर चुना उसने तीसरा विकल्प|

कण में निहित कण,
शून्य पहले प्रकाश बना;
सूर्य, ग्रह और चाँद बना,
बादल घन बन बाँध बना;
घट घट पनघट बूँद बना,
ओस बना, धूप बना;
आंसू बना, खून बना,
किलकारियों का भ्रूण बना;
अथाह रहस्यों से लैस,
केतुओं का समूह बना |

तभी किसी डॉप्लर ने कहा-
देखो वह अब भी फ़ैल रहा है!
अनंत से परे अनंत तक,
समय से परे क्षण तक …

शून्य अगर फैलने की ठान ले,
तो शून्य शून्य नहीं रह जाता;
शून्य भगवान् बन जाता है,
शून्य ब्रह्माण्ड बन जाता है …..

~समर~

समर भीड़ में उलझा एक चेहरा है |

अगर आपको उचित लगे तो इस लेख को लाइक और इसपर कमेन्ट करें | अपने मित्रों और परिवार के सदस्यों से साझा करें | The GoodWill Blog को follow करें ! मुस्कुराते रहें |

अगर आप भी लिखना चाहते हैं The GoodWill Blog पर तो हमें ईमेल करें : blogthegoodwill@gmail.com

One thought on “शून्य

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: