उड़ खोल पंख!

उड़ खोल पंख
परवाज़ तो भर,
ज़मीं से रोष है तेरा,
आसमाँ से क्या गिला?

धूल का तिनका ज़र्रा भी,
उड़ने का माद्दा रखता है,
होना उसे ख़ाक है पर,
गिरने से ख़ाक वह डरता है!
सुन देख तुझे पुकारे नभ,
भय पार सजे हैं पर्वत सब,

जा चीर फ़लक,
दीदार तो कर,
उड़ खोल पंख
परवाज़ तो भर।

जो बहा वह दरिया हुआ,
सड़ गया पानी ठहरा हुआ,
देख समंदर आज सभी,
तुझे सुनाते राज़ कई,
सीपक, मोती, कौड़ी, शंख!

जा चीर लहर,
मगरों से लड़,
उड़ खोल पंख
परवाज़ तो भर।

तट का सम्मोहन-
बड़ा मनोरम,
पालना, झूला,
स्नेह प्रमोदन।
सच नहीं सफ़र किनारे का,
सच बना हुआ मंझधारे का|

जा धार से भिड़,
जा लड़ कट मर,
उड़ खोल पंख,
परवाज़ तो भर,

उड़ान का आग़ाज़ तो कर…

~तनय “समर”~

समर भीड़ में उलझा हुआ एक चेहरा है |

अगर आपको उचित लगे तो इस लेख को लाइक और इसपर कमेन्ट करें | अपने मित्रों और परिवार के सदस्यों से साझा करें | The GoodWill Blog को follow करें ! मुस्कुराते रहें |

अगर आप भी लिखना चाहते हैं The GoodWill Blog पर तो हमें ईमेल करें : blogthegoodwill@gmail.com

3 thoughts on “उड़ खोल पंख!

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: