आह विभीषण!

आह विभीषण!
धर्म तुम्हें ठगता है |
कहे तुम पर आश्रित को जग पुरुषोत्तम,
तुमको भेदी घर का ढाहे लंका कहता है|
धर्म तुम्हें ठगता है|

कोई मंदिर नहीं, सम्मान नहीं;
कोई सादर सत्कार नहीं ,
यहाँ पीये मलाई नाग देव तक-
तुमको जल भी नहीं चढ़ता है |
धर्म तुम्हें ठगता है|

अप्सराओं की अवहेलना,
क्या स्वर्ग में तुम्हें खलती है?
गद्दार! धोखेबाज़! फरामोश!
बुद्धिजीवियों की यह निंदा,
क्या वहां भी अखरती हैं?

बकने दो बावलों को!
तुम मेरी बात सुनो-
ये बूढ़ा बरगद,
जो फैला है पहाड़ से समुद्र तक,
कहता खुद को जम्बुद्वीप है;
जर्जर हर शाख़ है इसकी-
फूल सूँघता है , जड़ को दूसता है,
धर्म नहीं , विजयी को दशमी पर पूजता है|

तुम जो होते भातृ भक्त तो –
इसका इतिहास भूगोल कुछ और होता|
दाग़े जाते पुतले रघुकुल दीपों के,

सत्य बस रावण –
बस रावण ही महान होता|

सिखलाया तुमने-
जो हो परिवार में भी गलत कोई तो-
करे अन्याय. अमानवीय, अनीति तो-
हो उठ खड़े होना विरोध में ,
न विचलित होना परिजनों के,
तिरस्कृत अभियोग से|

हम न सीखे!!
हमारी दुर्बलता है.
तुम्हारे चरित्र की नहीं ,
हमारे पौरुष की विफलता है|

हम नहीं समझेंगे कभी,
तुम क्या थे, क्या हो और क्या रहोगे|
यह भी सच है कि तुम उलाहित होते रहोगे|
पर तुम फिर आना!
गली-गली पनपती लंकाओं को,
न्याय-ओ – विवेक से ढहाना,
सीताओं की लाज बचाना|

युद्ध में शायद तुमे भेदी कहलाओ,
“समर” में किन्तु सदा महायोद्धा कहलाओगे,
मर्यादा पुरुषोत्तम को अमर, अजर, अजेय;
तुम ही बनाओगे|

~समर~

समर भीड़ में उलझा हुआ एक चेहरा है |

अगर आपको उचित लगे तो इस लेख को लाइक और इसपर कमेन्ट करें | अपने मित्रों और परिवार के सदस्यों से साझा करें | The GoodWill Blog को follow करें ! मुस्कुराते रहें |

अगर आप भी लिखना चाहते हैं The GoodWill Blog पर तो हमें ईमेल करें : blogthegoodwill@gmail.com

One thought on “आह विभीषण!

  1. अति सुंदर।
    विभीषण का मन इससे बेहतर नहीं हो सकता।
    अनेकानेक बधाई समर।🙂👌

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: