स्मारक

जब जब आदमी ने लिखना चाहा,
और वह न लिख पाया कविता,
उसने बनाई इमारतें,
सड़कें, घर और पूजा के स्थान।

उसने छेड़ी जंग,बनाए हथियार,
बसाए शहर, खड़ी की दीवार।

स्मारक है पूरी दुनिया,
अनलिखी कविताओं की….

~समर~

समर भीड़ में उलझा हुआ एक चेहरा है |

अगर आपको उचित लगे तो इस लेख को लाइक और इसपर कमेन्ट करें | अपने मित्रों और परिवार के सदस्यों से साझा करें | The GoodWill Blog को follow करें ! मुस्कुराते रहें |

अगर आप भी लिखना चाहते हैं The GoodWill Blog पर तो हमें ईमेल करें : blogthegoodwill@gmail.com

2 thoughts on “स्मारक

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: