मैं अभी और लड़ूंगा…


हर बार हार हार कर,
दिल-जां-जुनूं थाम कर,
पोंछ नीर आँख से,
तान तीर बाण से,
लक्ष्य नये सधुंगा,
मैं अभी और लड़ूंगा…

धूप थी, ढल गयी;
शाम यूँ बिख़र गयी,
यादों के जो मेले थे,
अब तारों से, अकेले से;
दस चाँद नये जड़ूंगा,
मैं अभी और लडूंगा…

हर पल बहती युद्ध की वेणी,
पग पग सजती बलि की बेदी,
है मोल ही क्या कमज़ोरी का ?
बेबस बेदीन हुज़ूरी का ?
हर तलवार से भिडूंगा,
मैं अभी और लड़ूंगा,…

~समर~

समर भीड़ में उलझा हुआ एक चेहरा है |

अगर आपको उचित लगे तो इस लेख को लाइक और इसपर कमेन्ट करें | अपने मित्रों और परिवार के सदस्यों से साझा करें | The GoodWill Blog को follow करें ! मुस्कुराते रहें |

अगर आप भी लिखना चाहते हैं The GoodWill Blog पर तो हमें ईमेल करें : blogthegoodwill@gmail.com

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: