मैं अभी और लड़ूंगा…

है मोल ही क्या कमज़ोरी का ?